हनुमान जी के चार मंत्र जिन्हें हर रोज पढ़कर आपकी जिंदगी बदल सकती है, जरूर पढ़ें।

हनुमान जी का कौन सा मंत्र जपना चाहिए?
ओम नमो हनुमते रुद्रावतराय वज्रदेहाय वज्रनखाय वज्रसुखाय वज्ररोम्णे वज्रनेत्राय वज्रदंताय वज्रकराय वज्रभक्ताय रामदूताय स्वाहा. – ओम नमो हनुमते रुद्रावताराय सर्वशत्रुसहांरणाय सर्वरोगाय सर्ववशीकरणाय रामदूताय स्वाहा. – हनुमान अष्टदशाक्षर मंत्र: ‘नमो भगवते आन्जनेयाये महाबलाये स्वाहा. ‘ हनुमान जी को प्रसन्न करने के मंत्र ॐ हं हनुमते नम:। ‘ ”अतुलितबलधामं हेमशैलाभदेहं दनुजवनकृशानुं ज्ञानिनामग्रगण्यम्। सकलगुणनिधानं वानराणामधीशं रघुपतिप्रियभक्तं वातजातं नमामि॥”
विजय मंत्र कौन सा है?
मंत्र: कालतंतु कारेचरन्ति एनर मरिष्णु , निर्मुक्तेर कालेत्वम अमरिष्णु।।
हनुमान चालीसा 7 बार पढ़ने से क्या होता है?
हनुमान चालीसा के पाठ से पाठकर्ता की कामनाएं भी पूरी होते हैं। लेकिन अगर कोई हनुमान भक्त लगातार 7 दिनों तक हर रोज 7 बार उगते हुए सूर्य या भगवान राम जी के सामने श्री हनुमान चालीसा का पाठ करें तो कुछ ही दिनों उनकी एक दो नहीं अनेक मनोकामनाएं पूरी हो जाती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.